जुर्रत

पास आने की जुर्रत भी होनी चाहिए किसी मिशाल के तौर पर। 
कब तक चलता रहेगा , यूँ सिलसिला-ए- अजनवी।

Please follow and like us:

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *