दूरिया

तुम्हे छोड़ कर जीना मुमकिन नहीं वो अक्सर कहा करते थे। 
कितनी दूरिया बढ़ा ली है आज, कभी जो बाहों में रहा करते थे।

Please follow and like us:

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *