बस इतना सा है, मेरी मुहब्बत का फ़साना।

तेरा रोना मुस्कुराना, तेरा टूट कर बिखर जाना।

तेरा दिल मे उतरना, ठहरना, ठहर कर निकल जाना।

तेरा जागना, जगाना, तेरा किस्सा सुनाना।

तेरी बातें, वो रातें, तेरा हँसना खिलखिलाना।

तेरा गुस्सा, तेरा प्यार, तेरा रूठना मनाना।

तेरा इंकार, इकरार, तेरा वह आना जाना।

तेरी आहें, तेरी बाँहें, तेरी हुश्न का खजाना।

तेरा आना, ठिठकना, बेल सी लिपट जाना

तेरी वफ़ा, तेरी जफ़ा, हाल-ए-दिल सुनाना।

तेरा वो देखना, लजाना, वो पलकें गिराना

तेरी चाहत, वो राहत, तेरा दिल को सताना।

निग़ाहों में आना, तेरा वह छुपना, छुपाना।

तेरा प्यार का जताना, फिर वो नज़रें झुकाना।

तेरा सुनना, सुनाना, हक़ीक़त कुछ फ़साना।

वो कसमें वो वादे, तेरा वो दिल तोड़ जाना।

मसलन मेरे हाल पर वो मुझे छोड़ जाना।

तेरा दूर जाना, बिछड़ना, चीखना चिल्लाना,

तेरा लौटना, सिसकना, तेरा गिड़गिड़ाना।

वो गांठो का पड़ना, वो नज़र से गिराना।

बस इतना सा है, मेरी मुहब्बत का फ़साना।

-राजेश आनंद

Please follow and like us:

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *