मुहब्बत

मेरी मुहब्बत का सफ़र भी अज़ीब था. 

कभी ये करीब था कभी वो क़रीब था. 

डूबा रहा जिश्म मे मगर रुह न मिलीं,

ये थी खुशनसीबी या मै बदनशीब था.

Please follow and like us:

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *