Posted in Poems

आज कर लो सनम प्यार हमसे।

क्या सुहाना है मौसम कसम से। आज कर लो सनम प्यार हमसे। हो रही है सितारों की बारिश, चांदनी भी खिली आज दम से। कितनी…

Continue Reading... आज कर लो सनम प्यार हमसे।
Posted in Poems

बच कर निकलना मुश्किल था दुश्मनो से…

हौसला नहीं था मुझमे खुलकर जलने का, इसलिए राख बन कर सुलगना पड़ा। बच कर निकलना मुश्किल था दुश्मनो से, इसलिए रौंद कर उन्हें आगे…

Continue Reading... बच कर निकलना मुश्किल था दुश्मनो से…
Posted in Poems

बस इतना सा है, मेरी मुहब्बत का फ़साना।

तेरा रोना मुस्कुराना, तेरा टूट कर बिखर जाना। तेरा दिल मे उतरना, ठहरना, ठहर कर निकल जाना। तेरा जागना, जगाना, तेरा किस्सा सुनाना। तेरी बातें,…

Continue Reading... बस इतना सा है, मेरी मुहब्बत का फ़साना।
Posted in Poems

एक आँशू ही मेरे दर्द की पहचान क्यों है ?

टूट कर भी मेरे चेहरे पर मुस्कान क्यों है? इस सवाल पर हर शख्स परेशान क्यों है ? अक्सर रोता हूँ आशुओ को थाम कर…

Continue Reading... एक आँशू ही मेरे दर्द की पहचान क्यों है ?
Posted in Poems

ये हारने का सिलसिला तभी से बस शुरू हुआ

मस्त था मदमस्त था बस काम में व्यस्त था । हार से अंजान और नादान सा में शख्स था । खड़ा था मै जिस जगह…

Continue Reading... ये हारने का सिलसिला तभी से बस शुरू हुआ
Posted in Poems

सुनो अभी मेरा इंतकाम बाँकी है!

तुम! हाँ तुम्ही से कह रहा हूँ! कि अभी मेरा काम बाँकी है। तेरा रोना, चीखना चिल्लाना, अभी वह अंजाम बाँकी है। तुमने अच्छी कोशिश…

Continue Reading... सुनो अभी मेरा इंतकाम बाँकी है!
Posted in Poems

अतीत के गुनाहों का, ये वर्तमान गुनहगार है?

बिक रही ग़रीबी का, ग़रीब ही खरीददार है। अमीरों के शहर में, ये गरीबों का बाजार है। कुछ रोटियां है मेरे पास, दे सकता हूँ,…

Continue Reading... अतीत के गुनाहों का, ये वर्तमान गुनहगार है?
Posted in Poems

तुम जितना बताते हो मेरे बारे में, उतना बुरा तो नही हूँ।

इतना चुभने लगा हूँ अपनो को, मैं कोई छुरा तो नही हूँ। तुम जितना बताते हो मेरे बारे में, उतना बुरा तो नही हूँ। मत…

Continue Reading... तुम जितना बताते हो मेरे बारे में, उतना बुरा तो नही हूँ।
Posted in Poems

मेरी हस्ती मिटा दी तुमने,अब बचा लो अपनी हस्ती को।

कौन खड़ा था किसके ऊपर,कहाँ पता दीवारों को। नींव गड़ी है मिट्टी में, यह संशय था मीनारों को। मैं ही था वह नींव तुम्हारी, जिससे…

Continue Reading... मेरी हस्ती मिटा दी तुमने,अब बचा लो अपनी हस्ती को।
Posted in Poems

देखे सनम तुम्हे हम ऐसे ही हाल में.

देखे सनम तुम्हे हम ऐसे ही हाल में. भीगे से बदन में बिखरे से बाल में देखे सनम तुम्हे हम ऐसे ही हाल में. आती…

Continue Reading... देखे सनम तुम्हे हम ऐसे ही हाल में.